तनवीर ग़ाज़ी
तनवीर ग़ाज़ी
7 Articles0 Comments

एक मुख्यधारा के गीतकार, कवि और पटकथा लेखक हैं। 2016 में अमिताभ बच्चन अभिनीत फिल्म पिंक में अपने काम के लिए प्रसिद्ध, तनवीर गाजी एक भारतीय गीतकार हैं, जो मुख्य रूप से हिंदी फिल्म उद्योग में काम कर रहे हैं। उनकी क्रेडिट वाली फिल्मों में हेट स्टोरी 2 (2014), रनिंग शादी (2017), लव यू फैमिली (2017), अक्टूबर (2018), ये साली आशिकी 2019 शामिल हैं।   नामांकन : IIFA AWARDS 2017, स्टार स्क्रीन अवार्ड 2017 विजेता : जागरण उत्सव 2018, भारतीय टेलीविजन अकादमी पुरस्कार 2017, भारतीय आइकन, फिल्म पुरस्कार 2019, SAHIR LUDHIYANVI AWARD 2002, MAJROOH SULTANPURI AWARD 2019, राष्ट्र पुरस्कार 2018 का आभूषण।

जो तीन लफ़्ज़ कहे तुझ से फ़ोन पर मैं ने

जो भेद तुझ में छुपे हैं वो खोल सकता हूँ । तेरे बदन को निगाहों से तौल सकता हूँ ।   जो तीन लफ़्ज़ कहे तुझ से फ़ोन पर मैं ने , मैं सिर्फ़ उतनी ही अँग्रेज़ी बोल सकता हूँ…

तू खुद की खोज में निकल

तू खुद की खोज में निकल तू किस लिए हताश है, तू चल तेरे वजूद की समय को भी तलाश है   जो तुझ से लिपटी बेड़ियाँ समझ न इन को वस्त्र तू ये बेड़ियां पिघाल के बना ले इनको…

वो सुर्ख़ फूल अभी तक मेरी किताब में है

कोई  सवाल  छुपा  तेरे   हर    जवाब में है । सदी का दर्द इसी दो मिनट के  ख़्वाब में है ।   जो  तेरे  कत्थई  बालों  में  सज  नहीं  पाया , वो  सुर्ख़ फूल  अभी तक  मेरी किताब में है ।…

उसके महेंदी लगे हाथों से जलाया जाता

मैं दिया था ,  तो मेरा मान बढ़ाया जाता। उसके महेंदी लगे हाथों से जलाया जाता।   मेरे  पानी  में  कोई  देख  रहा  था  चेहरा , काश इस वक़्त  ये पत्थर न गिराया जाता   डस्टबिन  में पड़ी चिठ्ठी  की…

अगर तुम सुनने आओगी, कई ग़ज़लें सुनाऊँगा

पुरानी  डायरी   से   कुछ   नई ग़ज़लें सुनाऊँगा । अगर तुम सुनने आओगी, कई ग़ज़लें सुनाऊँगा । मैं दिल की राख से लिखता हूँ सो रंगीनियाँ कैसी , धुएँ से लफ़्ज़ होंगे ……सुरमई ग़ज़लें सुनाऊँगा । तनवीर ग़ाज़ीएक मुख्यधारा के गीतकार,…

जो दर्द तुम्हे मीर की गज़लों में मिले हैं

जो दर्द तुम्हे मीर की गज़लों में मिले हैं। वो  सब   मेरी  तनहाई  के स्क्रीनप्ले हैं। तनवीर ग़ाज़ीएक मुख्यधारा के गीतकार, कवि और पटकथा लेखक हैं। 2016 में अमिताभ बच्चन अभिनीत फिल्म पिंक में अपने काम के लिए प्रसिद्ध, तनवीर…

अब ये अख़बार पुराना नहीं होने वाला

एक मौसम था   हरी घास पे सोने वाला । एक बादल था तेरा जिस्म भिगोने वाला । इसी  अख़बार  में  तस्वीर  छपी  है तेरी , अब ये अख़बार  पुराना नहीं होने वाला । तनवीर ग़ाज़ीएक मुख्यधारा के गीतकार, कवि और…

हमारे बारे में

हिंदी साहित्य की वाचक परंपरा कवि-सम्मलेन, जिसका उद्देश्य समाज का दर्पण होकर उसे उसके गुणों एवं अवगुणों से परिचित करवाते हुए एक उचित दिशा प्रदान करना है। कवि-सम्मलेन की ये परंपरा लम्बे समय से सामजिक चेतना का ये कार्य करती आ रही है। इसी परंपरा को सहेजने और संवारने का कार्य करने के उद्देश्य से हमने यह माध्यम तैयार किया है।

संपर्क करें

पता: Plot no.828, Sector 2B, Vasundhara
Ghaziabad ,Uttar Pradesh,
India - 201012

फ़ोन: 7027510760

ई-मेल: [email protected]

Skip to toolbar