रासबिहारी गौड़
रासबिहारी गौड़
2 Articles0 Comments

कवि, लेखक एवम चिंतक रास बिहारी गौड़ साहित्य जगत के सुविख्यात नाम हैं। अपनी हास्य व्यंग्य कविताओं को लेकर आप अमेरिका, कनाडा(दो बार) , यू. ए. ई. (तीन बार) सहित अनेकों देशों में जा चुके हैं।  टी वी के लोकप्रिय कार्यक्रम लाफ्टर चैंपियन के उप विजेता रहने के साथ-साथ सभी प्रमुख चैनल  यथा एन डी टी वी, इंडिया टी वी, ए बी पी न्यूज़, आज तक ,पर आपकी कविताएं प्रसारित होती रहती हैं। लालकिले कवि सममेलन से लेकर विविध अंतराष्ट्रीय समारोह में संचालन का दायित्व निभा चुके हैं। अनेकों साहित्य समारोह में शिरकत करते हुये आप अंतराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त "अजमेर लिटरेचर फेस्टिवल" का आयोजन करते हैं। आप " The Literature society of  India" के राष्ट्रीय संस्थापक अध्यक्ष हैं। देश भर में आयोजित होने वाले' जस्ट- हास्यम' एवम 'गीत- गुलजार'  सरीखे कार्यक्रम सीरीज के सयोंजक हैं। व्यंग्य लेखन को लेकर देश की तमाम प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में छपते रहे हैं।  समाचार पत्रों में नियमित स्तम्भ, तीन पुस्तको ,, "लोकतंत्र के नाम", "जस्ट हास्यम", एव "वसीयत है कविता", का प्रकाशन हो चुका है।  यथासंभव'  नामक पत्रिका का सम्पादन आपके लेखकीय कौशल का विस्तार है।सोशल मीडिया पर आपके द्वारा लिखित  वैचारिकी और  बतरस  सर्वाधिक पसंद किए जाने वाले ब्लॉग हैं। साहित्य से इतर समाज के अनेको प्रकल्पों में सतत सक्रिय रहते हैं। लायंस क्लब के पूर्व अध्यक्ष, अखिल भारतीय कवि सम्मेलन समिति के कार्यकारणी सदस्य, सिटिज़न कॉउंसिल, सुर सिंगार संस्था ,शब्द, सहित अनेकों संस्थाओं में सक्रिय भागीदारी ,अनेकों पुरुस्कारों से सम्मनित श्री गौड़ अपने सरोकारों से सर्वत्र जाने जाते हैं।

नक्शा

मेरे बेटे ने भारत का नक्शा फाड़ दिया फाड़ दिया तो फाड़ दिया हमने भी लताड़ दिया बच्चे नक्शों से नहीं खेलते हैं वह बोला,आप भी तो कविताओं में पेलते हैं भारत के नेता भारत से खेल रहे है उन्होंने…

तरक्की की दौड़ है

क्या करें, भाई साहब तरक्की की दौड़ है   डाटा  फ्री आटे पर जीएसटी जिओ का सिम जेब पे दृष्टि जीने के लिए जुगाड़ जोड़ तोड़ है क्या करें भाई साहब! तरक्की की दौड़ है   पहचान पर पहरे हैं…

हमारे बारे में

हिंदी साहित्य की वाचक परंपरा कवि-सम्मलेन, जिसका उद्देश्य समाज का दर्पण होकर उसे उसके गुणों एवं अवगुणों से परिचित करवाते हुए एक उचित दिशा प्रदान करना है। कवि-सम्मलेन की ये परंपरा लम्बे समय से सामजिक चेतना का ये कार्य करती आ रही है। इसी परंपरा को सहेजने और संवारने का कार्य करने के उद्देश्य से हमने यह माध्यम तैयार किया है।

संपर्क करें

पता: Plot no.828, Sector 2B, Vasundhara
Ghaziabad ,Uttar Pradesh,
India - 201012

फ़ोन: 7027510760

ई-मेल: [email protected]

Skip to toolbar