अनिल कुमार चौबे
अनिल कुमार चौबे
0 Articles0 Comments

जन्म तिथि=18-11-1976 कवि नाम- डॉ अनिल चौबे माता- श्रीमती सोना देवी पिता- स्व-रामछबिला चौबे जन्म स्थान- ग्राम-पटखौली पो-मुसहरी बाजार जिला-गोपालगंज बिहार । वर्तमान पता- N1/15-11-1P नगवां लंका वाराणसी 221005 सम्पर्क सूत्र- 9415997053 7355557083 ईमेल- [email protected] शिक्षा= साहित्याचार्य, नेट(यू जी सी) विद्या-वारिधि(पीएच डी) काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU)वाराणसी सम्प्रति= स्वतंत्र लेखन कृतियाँ- (जो प्रकाशनाधीन है) 1.चकल्लस चौबे जी का 2. मेघदूत का भोजपुरी पद्यानुवाद 3.मैं ने कही ग़ज़ल मूल विधा= हास्य-व्यंग्य (1998 से अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों में हास्य कवि के रूप सक्रिय) विदेश यात्रा= दुबई , शारजहां, बैंकॉक, नैरोबी, ओमान, सलाला, सोहार, (लंदन, बाथ,स्लाव,कार्डिफ,मनैचेस्टर, स्कॉटलैंड,आयरलैंड,नटिंघम, बरहिंग्घम,ब्लैक पुल, लेबरपुल,आदि UK के 14 शहर) TV शो-- लपेटे में नेता जी (News18इण्डिया) Z News- कवि युद्ध सम्मान= 1- काव्यशेखर (2007) युवा विद्वत परिषद वाराणसी 2.स्व.योगेश्वर दयाल वर्मा स्मृति "प्रणाम सम्मान" लखनऊ 2015 3. यूपी गौरव रत्न (श्रीचंद्रशेखर फाउंडेशन, वाराणसी) 2015 4. शैल चतुर्वेदी सम्मान 2017, लखनऊ, पहल संस्था 5 . प्रयाग रत्न (2017) हंसवाहिनी संस्था इलाहाबाद 6. काव्यकलाधर अलंकरण (उन्नाव आचमन संस्था) 2018 7. शाने ए बनारस (jcl 2020) (हास्य कवि- अनिल चौबे एक संक्षिप्त परिचय) पिछले दो दशक में हिन्दी कवि-सम्मेलन के मंचों पर हास्य कवि के रूप में उभरे कवियों में डॉ अनिल चौबे वो नाम है जो अपनी मौलिकता और प्रत्युत्पन्न मति के लिए जाना जाता है ! देश के विभिन्न मंचों पर अपनी लोकप्रिय प्रस्तुति से ख्याति प्राप्त कवि अनिल चौबे भारत के अलावा दुबई शारजहाँ बैंकॉक साउथ अफ्रीका और UK के बेल्थ, स्लाव, ब्लैकपुल,नाटिंघम, बरहिंग्घम,लंदन, मैनचेस्टर,आदि 14 शहरों में भी अपनी हास्य व्यंग्य कविताओं का जादू बिखेर चुके है ! संस्कृत साहित्य का लालित्यमय सौंदर्य और भाषायी टोन की शरारती महक उनकी बोलचाल में सहज रूप से उतरी है, जो इन्हें अन्य मंचीय कवियों से अलग तो करती ही है, विशिष्ट भी बनाती है ! उनकी रचनाएँ केवल हास्य की गुदगुदी ही नही पैदा करती बल्कि व्यंग्य की तीखी चुभन भी देती है ! उनका रचनाकार जहाँ एक ओर चहरे पर खिलखिलाहट बिखेरने में सक्षम है, वहीं अपना काव्य धर्म निर्वाह करते हुए मस्तक पर सार्थक चिंतन की गम्भीर रेखाएँ उभारने की क्षमता भी रखता है ! सहज बातचीत, हंसमुख व्यवहार, स्थितियों और घटनाओं को गहनता से समझने की अद्भुत क्षमता, व्यंग्य की आत्मा को टटोलते हुए जीवन के तमाम पहलुओं पर चर्चा और बेहिचक सच बोल सकने का आत्मबल डॉ अनिल चौबे को अन्य कवियों से विशेष बनाता है ।

No articles found matching your query